National

कोरोना की तीसरी लहर को रोकने के लिए अस्पतालों में विशेष तैयारी

ग्रेटर नोएडा, 22 मई (एजेंसी)।
कोरोना के तीसरी लहर से निपटने के लिए जिला प्रशासन ने तैयारियां शुरू कर दी
है। ग्रेटर नोएडा स्थित जिम्स अस्पताल सहित विभिन्न अस्पतालों में इसके लिए बैड तैयार किए जा रहे हैं। वहीं
कोरोना कि दूसरी लहर की रफ्तार धीमी पड़ने से अब यहां के अस्पतालों में बेड व ऑक्सीजन की उपलब्धता बढ़
गई है। कई अस्पतालों में आईसीयू तथा वेंटीलेटर बेड अब खाली है। ग्रेटर नोएडा स्थित राजकीय आयुर्विज्ञान
संस्थान (जिम्स) के निदेशक ब्रिगेडियर (रिटायर्ड) डाक्टर राकेश गुप्ता ने बताया कि कोरोना की तीसरी लहर आने
की संभावना के मद्देनजर जिम्स में 100 बेड तैयार किए जा रहे हैं। इसकी सुविधा जल्द शुरू हो जाएगी। इसमें
आईसीयू, एचडीयू व नॉर्मल बेड शामिल होंगे। मालूम हो कि कोरोना वायरस की दूसरी लहर के सटीक आकलन ना
होने कारण ऑक्सीजन व दवाइयों को लेकर भारी किल्लत रही। अस्पतालों में बेड नहीं मिले तथा गंभीर मरीजों के
लिए काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा। अस्पताल के गेट पर मरीजों ने तड़प-तड़प कर दम तोड़ा। इन सब
चीजों से सबक लेते हुए जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग ने तीसरी लहर के मद्देनजर मेडिकल कॉलेज और
राजकीय चिकित्सालय को सौ-सौ बेड की व्यवस्था करने का निर्देश दिया है। चाइल्ड पीजीआई नोएडा के एमएस
आकाश राजन ने बताया कि संस्थान में अभी 10 पीडिया आईसीयू की सुविधा है। इसे बढ़ाकर 100 बेड किया जा
रहा है। नॉलेज पार्क के शारदा अस्पताल में भी 160 बेड की व्यवस्था की गई है। अस्पताल के जनसंपर्क निदेशक
अजीत कुमार ने बताया कि 20 नवजात गहन चिकित्सा इकाई, 20 बाल चिकित्सा गहन देखभाल इकाई, 20 बेड
की सुविधा हाई डिपेंडेंसी यूनिट में होगी। वहीं पोस्ट कोविड-19 मरीजों के लिए 10 बेड का वार्ड तैयार किया गया
है। इसकी क्षमता बढ़ाकर 30 की जा रही है। कोरोना की दूसरी लहर धीमी पड़ने से यहां के अस्पतालों में बेड की
उपलब्धता बढ़ गई है। दूसरी लहर जब अपनी चरम सीमा पर थी तो यहां पर बेड को लेकर भारी मारा मारी थी।
अस्पतालों में भर्ती होना जंग जीतने जैसी स्थिति थी। अब यहां के विभिन्न अस्पतालों में आईसीयू, बेड वेंटिलेटर,
बेड तथा ऑक्सीजन वाले बेड खाली हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button